सामान्य प्रश्न

साधारण प्रश्न

विकल्प - एक सीधे तौर पर फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट जो कि किसी भी एसेट से जुड़ा हो सकता है (ये स्टॉक, मुद्रा जोड़े और तेल आदि हो सकता है)

Digital option - a non-standard option that is used to make a profit on price movements of such assets for a certain period of time.

भुगतान के समय पार्टियों द्वारा तय किए गए शर्तो पर ही डिजिटल विकल्प निर्भर करता है, जो कि पार्टियों द्वारा निर्धारित किया जाता है और एक निश्चित कमाई (ट्रेड इनकम और सम्पति के दाम में अंतर) या नुकसान (एसेट के कीमत की राशि मे) को लाता है।
चूँकि डिजिटल विकल्प को एक निश्चित दाम में पहले से ही खरीदा जा चुका है, लाभ का आकार, साथ ही नुकसान का आकार भी ट्रेड के पहले ही पता चल जाता है।

इन डील्स का एक और गुण है समय सीमा। सभी विकल्प का अपना अलग शर्त है। (अनुभव का समय या सम्पूर्ण होने का समय)
किसी ली गयी सम्पति के मूल्य के बदलाव की डिग्री के संदर्भ में (ये कितना बढ़ या घट जाएगा), जीतने की स्थिति में एक निश्चित राशि का भुगतान किया जाएगा। हालाँकि, आपके रिस्क की राशि सिर्फ़ तय किये गए विकल्प के अनुसार ही सीमित है।
एक विकल्प ट्रेड करने के लिये ये आवश्यक है कि आप एक वैकल्पिक एसेट का चुनाव करें जो कि विकल्प को प्रदर्शित करे। आपका अनुमान इसी एसेट पर लागू होगा।
आसान भाषा मे, डिजिटल कांट्रैक्ट को लेने का मतलब है कि आप किसी लिए गए एसेट के मूल्य में होने वाले बदलाव पर दांव खेल रहे हैं
एक लिया गया एसेट एक "आइटम" है जिसका दाम खाते में ट्रेड को समाहित करते समय लिया जा सकता है। डिजिटल विकल्प के रूप में अधिकृत किए गए एसेट में ज्यादातर सबसे ज्यादा माँग वाले प्रॉडक्ट ही काम करते हैं। इसके कुल 4 प्रकार है:
  • सिक्योरिटी (दुनिया भर की कम्पनियों के शेयर)
  • मुद्रा जोड़े (EUR / USD, GBP / USD आदि)
  • कच्चा माल और महँगी धातुएँ (तेल और सोना इत्यादि)
  • अन्य ( S&P 500, डॉ, डॉलर सूचकांक आदि)
दुनिया भर में चलने वाला एसेट मौजूद नहीं है। इसे खुद की जानकारी समझ और विभिन्न तरह के आँकड़े ध्यान में रखते हुए चुनिए, और साथ ही इसे चुनने से पहले बाजार को भी अच्छे से समझने का प्रयास कीजिये।
सच्चाई ये है कि डिजिटल विकल्प फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट के वित्तीय समझौते का सबसे आसान तरीका है। डिजिटल विकल्प के माध्यम से पैसे कमाने के लिए आपको पहले से ही मार्किट के प्राइस का अनुमान लगाने की जरूरत नहीं है।
ट्रेडिंग प्रक्रिया का सिद्धान्त सिर्फ़ एक अकेले टॉस्क के हल पर सीमित है- किसी भी एसेट का दाम कांट्रेक्ट टाइम के खत्म होने के समय घटेगा या बढ़ेगा
इस विकल्प का प्रभाव ये होता है कि इससे आपको कोई मतलब नहीं है, की जिस समय ट्रेड क्लोज हो रहा है उस वक्त आपके द्वारा अधिकृत किये गए एसेट का मूल्य 100 अंक तक बढ़ा हुआ है या फिर एक ही अंक पर रुका है। आपके लिए बस ये करना आवश्यक है कि आप मूल्य की दिशा का पहचान कर के रखें।
अगर किसी भी परिस्थिति में आपका अनुमान सही साबित होता है तो आपको इल्ड निश्चित राशि का लाभ दिया जाता है।
डिजिटल विकल्प के बाजार मे लाभ कमाने के लिये, आपको बस इस चीज का बिल्कुल सही अनुमान लगाना है कि आपके द्वारा चुने गए एसेट का मूल्य किस दिशा में बढ़ेगा या घटेगा। इसलिए एक बेहतर कमाई के लिए आपको जरूरत है:
  • खुद की ट्रेडिंग स्ट्रेटजी का विकास करने की, जिसमें अनुमान लगाए गए नम्बर सही साबित हो,
  • अपने रिस्क को कम करने का प्रयास करें।
डेवलपमेंट स्ट्रेटजी में, यहाँ तक कि बेहतर परिवेश को समझने के लिए मार्किट की समझ, डेटा को समझना और पढ़ना
कम्पनी अपने ग्राहकों से ही कमाई करती है। इसलिए, ये ग्राहकों द्वारा लाभ कमाए गए पैसे के ट्रांजेक्शन में अपना हिस्सा ज्यादा लेती है, नुकसान में हुए ट्रांजेक्शन की तुलना में, वास्तविक रूप से क्लाइंट द्वारा ट्रेडिंग की सफल स्ट्रेटजी का इस्तेमाल कर के कमाए गए लाभ में कम्पनी का भी प्रतिशत होता है।
इसके साथ ही, कम्पनी के ट्रेड वॉल्यूम में से क्लाइंट द्वारा लिए गए ट्रेड को, जो कि किसी दलाल को या बदलाव के लिये ट्रान्सफर किया जाता है, जो कि वास्तविक मुद्रा देने वाले के पास पहुँचता है, जो कि साथ मे मिलकर बाजार में वास्तविक मुद्रा को खुद ही बढ़ा देता है।
आप अपने व्यक्तिगत खाते को खाते की भीतर जाकर प्रोफ़ाइल पेज में नीचे दिए गए "खाता मिताएँ" के विकल्प पर क्लिक कर के खत्म कर सकते हैं।
निष्क्रिय होने की तिथि का मतलब उस समय से है, जिसके बाद ट्रेड को पूरा होना (बन्द होना) समझा जाएगा, और इसका परिणाम स्वतः ही दिखाई देने लग जाता है।
ट्रांजेक्शन के निष्पादित होने के समय को सुनिश्चित कीजिये (1 मिनट, 2 घंटे, महीने इत्यादि)
ट्रेडिंग प्लेटफार्म- एक ऐसा सॉफ्टवेयर जो कि क्लाइंट को विभिन्न फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट का इस्तेमाल करते हुए ट्रेड करने की सहूलियत देता है। इसके साथ ही ये कई सारी जानकारियों को जैसे कि कोटेशन, वास्तविक समय मे बाजार की स्थिति, कम्पनी के एक्शन आदि के बारे में भी बताता है।
डिजिटल विकल्प के मार्किट में तीन तरह के सम्भावित परिणाम हासिल हो सकते हैं:
1) किसी इवेंट में अगर आपके द्वारा लिए गए एसेट के मूल्य में होने वाले बदलाव का अनुमान आपने सही लगाया है तो फिर आपको लाभ हासिल होगा।
2) यदि किसी स्थिति में आपके द्वारा एसेट के मूल्य के उतार चढ़ाव के ऊपर लगाया गया अनुमान गलत साबित होता है तो फिर आपके एसेट की कीमत के अनुसार ही आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है(वास्तव में, आप सिर्फ़ अपना निवेश ही खो सकते हैं)
3) अगर ट्रेड का रिजल्ट जीरो आता है (लिये गए एसेट का मूल्य नहीं बदलता है, ये अभी भी उसी मूल्य पर है जिस पर इसे खरीदा गया था), आपको निवेश किया गया मूल्य मिल जाता है। अतः हमेशा रिस्क आपके द्वारा निवेश किये गए एसेट की कीमत पर निर्भर करता है।
नहीं, ये आवश्यक नहीं है। आपको बस कम्पनी के वेबसाइट पर खुद को पंजीकृत करते हुए एक व्यक्तिगत खाता खोलना है।
पहले से ही, एक ट्रेडिंग खाता यूएस डॉलर में खोला जाता है। लेकिन आपकी सुविधा के लिये, आप विभिन्न खातें अलग-अलग मुद्राओं में खोल सकते हैं।
क्लाइंट खाते के प्रोफ़ाइल पेज में मौजूदा सभी मुद्राओं का विकल्प लिस्ट आपको मिल जाएगा
कम्पनी के ट्रेडिंग खाते के प्लेटफॉर्म का फायदा ये है कि इसमें आपको अधिक धनराशि अपने खाते में जमा करने की आवश्यकता नहीं है। आप छोटी धनराशि जमा कर के भी ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं। न्यूनतम जमा की जाने वाली राशि 10 यूएस डॉलर है।

आर्थिक प्रश्न

बहुत सारे ऐसे घटक हैं जो कि आपके लाभ के आकार को प्रभावित करतें हैं:
  • आपके द्वारा चुनी गए सम्पत्ति की मार्किट में कीमत (जितने ज्यादा सम्पत्ति की बाजार में माँग रहेगी उतना अधिक आपको लाभ हासिल होगा)
  • ट्रेड का समय (सम्पति की कीमत सुबह के बाजार में और दोपहर के बाजार में व्यापक रूप से बदल सकती है)
  • दलाली वाली कम्पनी का टैरिफ
  • बाजार में बदलाव (आर्थिक इवेंट्स, आर्थिक सम्पतियों के भाग में बदलाव आदि)
लाभ की गणना आपको खुद से नही करनी है।
डिजिटल विकल्प का एक गुण ये है कि प्रति ट्रांजेक्शन पर एक निश्चित राशि का लाभ देता है, जो कि विकल्प के कीमत के प्रतिशत के अनुसार तय किया जाता है और ये इस कीमत के बदलाव के डिग्री पर निर्भर नहीं करता है। मान लीजिए, आपके द्वारा लगाये गए अनुमान के अनुसार अगर मूल्य में एक पोजिशन का बदलाव होता है तो आप को उस विकल्प का 90 प्रतिशत लाभ मिल जाता है। इसके बाद अगर आपके अनुमान लगाने की ही दिशा में 100 पोजिशन का भी बदलाव होता है तो भी आपको वही राशि मिलेगी।
लाभ की राशि जानने के लिए, आपको नीचे दिए गए स्टेप का अनुसरण निश्चित रूप से करना चाहिए
  • उस सम्पति का चुनाव करें जो की आपके विकल्प को संबोधित करता हो।
  • आपने जिस मूल्य पर विकल्प को खरीदा है उसे सूचित करें।
  • सही अनुमान लगाने की स्थिति में, आपके लाभ का सही प्रतिशत स्वतः ही प्रदर्शित हो जाता है।
ट्रेड में निवेश की गयी राशि का 98 प्रतिशत तक लाभ कमाया जा सकता है।
डिजिटल विकल्प का लाभ इसे चुने जाने के बाद ही निश्चित हो जाता है। ऐसे में आपको किसी ट्रेड के खत्म होने के बाद घटे हुए प्रतिशत जैसे नाखुश करने वाले समाचार का इंतज़ार करने की जरूरत नहीं है।
जैसे ही ट्रेड बन्द होता है, तुरन्त ही आपका बैलेंस लाभ की राशि के साथ व्यवस्थित हो जाता है।
कम्पनी के ट्रेडिंग खाते के प्लेटफॉर्म का फायदा ये है कि इसमें आपको अधिक धनराशि अपने खाते में जमा करने की आवश्यकता नहीं है। आप छोटी धनराशि जमा कर के भी ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं। न्यूनतम जमा की जाने वाली राशि 10 यूएस डॉलर है।
राशि की निकासी करने का तरीका बहुत ही आसान है और ये सीधे ही आपके व्यक्तिगत खातें के द्वारा निकाला जा सकता है।
जिस विधि को आपने खातें में जमा करने के लिये चुना है वो ही विधि धन निकासी के लिये भी इस्तेमाल की जाएगी। ("कैसे मैं जमा कर सकता हूँ?" इस सवाल को देखें)
उदाहरण के लिए, यदि आपने अपने खातें में वीजा पेमेंट सिस्टम की मदद से धन जमा किया है, आप वीजा पेमेंट सिस्टम की मदद से भी पैसे की निकासी कर सकते हैं।
जब खातें से एक बड़ी राशि निकालने की बारी आती है तो फिर कम्पनी सत्यापन करने के लिए कह सकती है (सत्यापन का निर्णय सिर्फ कम्पनी के पास ही निहित है ), इसलिए एक व्यक्तिगत खातें का पंजीकरण कराना अति आवश्यक है ताकि आप अपने अधिकार का लाभ किसी भी समय उठा सकें।
नहीं। कम्पनी किसी भी जमा और निकासी के लिए कोई भी धनराशि चार्ज नहीं करती है।
हालाँकि, ये समझना फायदेमंद है कि पेमेंट सिस्टम पैसे ट्रांसफर करने के लिये पैसे चार्ज कर सकती है और आंतरिक करेंसी बदलाव का रेट ले सकती हैं।
डिजिटल विकल्प के साथ काम करने के लिए आपको एक व्यक्तिगत खाता खोलने की जरूरत है, सभी ट्रेड की एक साथ देखने के लिये, आपको निश्चित रूप से एक खरीदे जाने वाले विकल्प पर जाकर एक निश्चित राशि का भुगतान करना होगा।
आप बिना कैश के भी सिर्फ़ कम्पनी के ट्रेनिंग खाते (डेमो एकाउंट) की मदद से ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं। इस तरह के खातें का इस्तेमाल मुफ्त में ट्रेडिंग के तरीकों को सीखने के लिये किया जा सकता है। इस तरह के खातें का इस्तेमाल कर के आप डिजिटल विकल्प के इस्तेमाल का अभ्यास कर सकते हैं, ट्रेडिंग के मूल नियमों को समझकर, इसके विभिन्न विधियों और स्ट्रेटजी को समझिए और खुद के लेवल को भी आंकिएँ।
ये करना बेहद आसान है। ये प्रक्रिया महज कुछ ही मिनट लेती है।
1) ट्रेड एक्सक्यूशन विंडो को खोलिए और ऊपर दायीं तऱफ के कॉर्नर पर दिए गए टैब हरे पर "जमा" पर क्लिक कीजिए।
एकांउट प्रोफ़ाइल में जाकर "जमा" के विकल्प पर क्लिक कर के आप अपने व्यक्तिगत खातें से भी राशि को जमा कर सकते हैं।
2) इसके बाद खातें में जमा करने की विधि का चुनाव करना आवश्यक है। (कम्पनी बहुत से सुविधाजनक विधि का विकल्प देती है जो कि क्लाइंट के लिये उपलब्ध है और उसके व्यक्तिगत खातें में दिख रहा होता है)
3) अगला, उस करेंसी को दर्शाइये, जिसमें पैसे को जमा किया जाना है और उसी के अनुसार करेंसी के एकाउंट को भी सूचित कीजिये।
4) जमा की जाने वाली राशि प्रविष्ट करें।
5) अनुरोध किये जाने वाले भुगतान की विस्तृत जानकारी देते हुए फॉर्म भरें।
6) भुगतान करें।
औसतन, क्लाइंट द्वारा भुगतान किए जाने की रसीद प्राप्त होने के बाद 5 दिन में भुगतान की प्रक्रिया पूरी हो जाती है और ये भुगतान के लिये आये हुए आवेदनों की संख्या पर भी निर्भर करता है। जिस दिन क्लाइंट भुगतान करता है, कम्पनी उसी दिन उसके भुगतान को सफल बनाने का प्रयास करती है।
अधिकतर भुगतान सिस्टम के लिये न्यूनतम निकासी राशि 10 यूएस डॉलर है।
बिटक्वाइन के लिये न्यूनतम निकासी राशि 100 USD है।
अधिकतर भुगतान सिस्टम के लिये न्यूनतम निकासी राशि 10 यूएस डॉलर है।
बिटक्वाइन के लिये न्यूनतम निकासी राशि 100 USD है।
ज्यादातर, पैसे निकालने के लिये अतिरिक्त डॉक्युमेंट्स की जरूरत नहीं पड़ती है। लेकिन कम्पनी सुरक्षा के लिए आपके पहचान के सत्यापन के लिए अतिरिक्त डॉक्यूमेंट जमा करने के लिए कह सकती है। ज्यादातर ये सब अवैध ट्रेडिंग और फ्रॉड को रोकने के लिये साथ ही ग़लत तरीक़े से पैसे कमाने से रोकने के लिए किया जाता है।
इस तरह के डॉक्युमेंट्स की लिस्ट बहुत छोटी है, और इस प्रक्रिया को करने के लिए आपको ज्यादा समय और प्रयास करने की जरूरत नहीं पड़ती है।

रजिस्ट्रेशन और जाँच

डिजिटल विकल्प से पैसे कमाने के लिए, आपको सबसे पहले एक खाता खोलना होता है जो कि आपको ट्रेड समझने की सुविधा देता हो। ये करने के लिये आपको कम्पनी की वेबसाइट पर पंजीकरण करना होता है।
पंजीकरण की प्रक्रिया बहुत आसान है और ये ज्यादा समय नहीं लेता है।
प्रस्तावित फॉर्म पर पूछे गए सभी सवालों का जवाब देना आवश्यक है। आपको ये सभी जानकारी वहाँ पर देनी होगी:
  • नाम (अँग्रेजी में)
  • ईमेल एड्रेस (वर्तमान में चलने वाला, काम, पता)
  • टेलीफोन (कोड के साथ, उदाहरण के लिये, +44123....)
  • एक पासवर्ड जिसका इस्तेमाल आप भविष्य में सिस्टम में प्रवेश करने के लिए करेंगे (किसी अनाधिकृत एक्सेस से बचने के लिये हम आपको सलाह देते हैं कि आप बड़े अक्षर, छोटे अक्षर और संख्या का इस्तेमाल करते हुए कठिन पासवर्ड का चुनाव करें। किसी अन्य व्यक्ति को पासवर्ड कभी ना बताएं)
सभी सवालों का जवाब देने के बाद, आपको ट्रेडिंग के लिये खातें को खोलने के कई तरीके बताए जाते हैं।
नहीं। कम्पनी के वेबसाइट पर क्लाइंट को पंजीकरण फॉर्म में पूछी गयी जानकारी को स्वतः ही पूरी और सत्य रूप में उपलब्ध कराते हुए पंजीकरण प्रक्रिया पूरी करनी होती है, और साथ ही जानकरी को हमेशा अपडेट भी करना होता है।
यदि किसी क्लाइंट के विभिन्न पहचान पत्र की जाँच करना आवश्यक है तो फिर कंपनी उस व्यक्ति के डॉक्युमेंट्स को अपने ऑफिस में लाकर जाँच सकती है।
यदि पंजीकरण के लिये प्रविष्ट किया गया डेटा उपलब्ध कराए गए डॉक्यूमेंट में लिखे डेटा से मिलान नहीं करता है तो आपका व्यक्तिगत खाता ब्लॉक किया जा सकता है।
अगर आपका जाँच प्रक्रिया को पास करना आवश्यक है तो फिर इसकी सूचना आपको ईमेल या/ अन्यथा एसएमएस द्वारा दी जाएगी।
इसी समय, कम्पनी उसी कॉन्टेक्ट विवरण का इस्तेमाल करती है जो कि आपके द्वारा पंजीकरण की प्रक्रिया के समय उपलब्ध करवाया गया था। (इसमें ईमेल एड्रेस और फोन नम्बर)। इसलिए सावधान रहें और जरूरी तथा सही जानकारी ही दें।
कंपनी द्वारा माँगे गए डॉक्यूमेंट उपलब्ध कराए जाने के बाद अधिकतम 5 (पाँच) कार्यकारी दिन
आपको कम्पनी की वेबसाइट पर जाकर टेक्निकल सपोर्ट सर्विस से सम्पर्क करना होगा और अपनी प्रोफाइल को ठीक करना होगा।
डिजिटल माध्यम में क्लाइंट की व्यक्तिगत जानकारी जरूरी डॉक्यूमेंट के साथ कम्पनी को उपलब्ध कराए जाने के लिए क्लाइंट द्वारा सत्यापित किया जाना होता है। क्लाइंट के लिए जांच की शर्तें जितना सम्भव हो उतना आसान रखा जाता है और डॉक्युमेंट्स की सूची भी न्यूनतम रखी जाती है। उदाहरण के लिए कंपनी आपसे माँग सकती है:
  • क्लाइंट के पॉसपोर्ट के पहले पृष्ठ की एक रंगीन फोटो कॉपी उपलब्ध करवाइए (फोटो के साथ पॉसपोर्ट का पेज )
  • सेल्फी (खुद के द्वारा खिंची गयी व्यक्तिगत फोटो) द्वारा सत्यापन
  • क्लाइंट के द्वारा पंजीकृत किये गए पते का सत्यापन
यदि क्लाइंट द्वारा प्रविष्ट किये गए डेटा से उसका सत्यापन नही हो पा रहा है तो कम्पनी किसी भी डॉक्युमेंट की माँग कर सकती है।
डॉक्यूमेंट्स की इलेक्ट्रॉनिक प्रति कम्पनी में जमा करने के बाद क्लाइंट को दिए गए डेटा के सत्यापन के लिए कुछ समय प्रतीक्षा करनी होगी।
आपको ईमेल और/ या SMS द्वारा आपके खाते के सत्यापन प्रक्रिया के सफलतापूर्वक सम्पन्न होने की और कम्पनी के ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से ट्रेडिंग प्रक्रिया को करने की सूचना दी जाएगी।